'दोबारा जनादेश लेने आएंगे तब यमुना ऐसी ही नहीं रहेगी' - Amar Ujala