कला धन अर्थतंत्र से बहार : शाह - Jansatta