हमारी चमड़ी मोटी हो गयी है, मैं संवेदना जगाने आया हूँ: शाह - Dainik Bhaskar