पहले जंगल राज की बात करते थे अब उन्हीं के कंधे पर बैठ गए : अमित शाह - Jagran