Press Statement Issued by BJP National President, Shri Amit Shah

Friday, 30 December 2016


भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह द्वारा जारी प्रेस वक्तव्य


भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने देश से भ्रष्टाचार और काले-धन को ख़त्म करने की दिशा में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्त्व में केंद्र की भारतीय जनता पार्टी सरकार द्वारा इस वर्ष किये गए विशेष प्रयासों की सराहना की। श्री शाह ने कहा कि जहां नोट बंदी से देश से काले धन का सफ़ाया हुआ है वहीं दूसरी ओर मोदी सरकार एक के बाद एक अनेक देशों के साथ ऐसे करार कर रही है जिससे विदेशों में छुपे काले धन पर लगाम कसी जा सकेगी। इसी कड़ी में आज भारत और सिंगापुर के बीच हुए DTAA संशोधन के लिए श्री शाह ने वित्त मंत्री श्री अरुण जेटली का हार्दिक अभिनंदन किया। इस करार के बाद न सिर्फ दोहरे कर से छुटकारा मिलेगा बल्कि राजस्व के नुकसान के साथ-साथ दो देशों के बीच स्वचालित जानकारी के आदान-प्रदान से काले धन पर रोक भी लग सकेगी। इस करार से सरकार का राजस्व तो बढ़ेगा ही, साथ ही साथ ईमानदार कारोबारी को दोहरे कर से मुक्ति भी मिलेगी जो कि विदेशी निवेश को प्रोत्साहित करेगा।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि काले-धन और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई को लेकर वर्ष 2016 कई मायनों में ऐतिहासिक रहा। उन्होंने कहा कि 2016 में मॉरीशस,साइप्रस, और सिंगापुर के साथ दोहरे कराधान संधि को संशोधित किया गया ताकि इन देशों में जमा भारतीय खाताधारकों के काले-धन का पता लगाया जा सके और उसे वापस देश में लाया जा सके। श्री शाह ने कहा कि काले-धन की लड़ाई में सबसे प्रमुख रोड़ा था स्विस बैंकों में लोगों द्वारा काला धान जमा करना। उन्होंने कहा कि दो देशों के बीच पहले से चले आ रहे अहम समझौते की वजह से सरकार को ऐसे लोगों के नाम पता करने और उसका खुलासा करने में समस्या आ रही थी। उन्होंने कहा कि इसलिए मोदी सरकार ने स्विस बैंकों में रखे गए काले धन के बारे में सूचना साझा करने के मकसद से भारत और स्विट्जरलैंड के बीच संशोधित दोहरा कर बचाव संधि (डीटीएए) को अमल में लाने का प्रयास किया और डीटीएए के तहत कई देशों के साथ इस तरह के समझौते किए गए। अब ऐसे देश जो आर्थिक सहयोग और विकास संगठन के सदस्य हैं, वे साल 2017 से अपने यहाँ काला धन जमा करने वालों के नाम की सूची भारत को देने के लिए सहमत हो गए हैं। उन्होंने कहा कि मॉरीशस और साइप्रस के बाद आज भारत ने सिंगापुर के साथ भी डीटीएए (डबल टेक्सेशन अवॉयडेंस एग्रीमेंट्स) में संशोधन के लिए 3 प्रोटोकॉल पर हस्ताक्षर किए हैं। उन्होंने कहा कि यह प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और वित्त मंत्री श्री अरुण जेटली जी के अथक प्रयासों का ही नतीजा है कि 2019 से भारतीयों एवं भारतीय संस्थाओं के निवेश के बारे में स्विट्जरलैंड से भारत को रियल टाइम जानकारी मिलनी शुरू हो जायेगी। उन्होंने कहा कि भारत सरकार लगातार काले-धन और काले-धन के कारोबारियों को जड़ से ख़त्म करने के लिए पहले दिन से ही प्रयासरत है, लेकिन विश्व के अन्य देशों के साथ दोहरे कराधान के समझौते में संशोधन विदेशों में जमा काले-धन को ज़ब्त करने की दिशा में काफी महत्त्वपूर्ण हैं।

श्री शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्त्व में केंद्र में भारतीय जनता पार्टी की सरकार पहले दिन से ही देश से भ्रष्टाचार और काले-धन को ख़त्म करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि सत्ता में आने के साथ ही मोदी सरकार ने काले धन के खिलाफ जांच के लिए एसआईटी का गठन करने का फैसला किया। इसके बाद 8 अगस्त, 2014 को प्रधानमंत्री जन-धन योजना का शुभारंभ किया ताकि देश के गरीब से गरीब व्यक्ति को देश के अर्थतंत्र से जोड़ा जा सके। उन्होंने कहा कि इसके अतिरिक्त विदेशों में भारतीय काला धन पर लगाम लगाने के लिए मोदी सरकार ने कालाधन और इम्पोजिशन ऑफ टैक्सस एक्ट, 2015 को संसद में पारित किया और कालाधन कानून के तहत विदेश से होने वाली आय और संपत्ति का मूल्यांकन करने के नियमों को लागू कर दिया। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार जून में काला धन पर लगाम लगाने के लिए आईडीएस इनकम डिक्लेरेशन स्कीम लेकर आई जिसके तहत 65,000 करोड़ से अधिक रकम का खुलासा हुआ। उन्होंने कहा कि रियल एस्टेट में भी काले धन पर लगाम लगाने के लिए मोदी सरकार ने इनकम टैक्स एक्ट में भी कई बदलाव किये, साथ ही बेनामी संपत्ति पर नकेल कसने के लिए बेनामी लेन-देन (प्रतिबंध) संशोधन बिल को संसद में पास किया जो पिछले 1 नवंबर 2016 से लागू हो गया।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्त्व में केंद्र की भारतीय जनता पार्टी सरकार जनता की और जनता के लिए काम करने वाली सरकार है, यह गाँव, गरीब और किसान की सरकार है। उन्होंने एक बार फिर देश से काले-धन और भ्रष्टाचार पर लगातार कड़े प्रहार करने के लिए और विदेशों में जमा काले-धन को देश वापस लाने की दिशा में किये जा रहे प्रयासों के सार्थक परिणाम लाने के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और वित्त मंत्री श्री अरुण जेटली जी को हार्दिक धन्यवाद दिया।

Download PDF