Back

Union Home and Cooperation Minister Shri Amit Shah interacted with Chief Ministers, Lieutenant Governors and Administrators of States and Union Territories through video conferencing regarding 'Har Ghar Tiranga' campaign under Azadi Ka Amrit Mahotsav.

July 17, 2022

केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री श्री अमित शाह ने आज़ादी का अमृत महोत्सव के अंतर्गत ‘हर घर तिरंगा’ अभियान के संबंध में आज राज्योंऔरकेंद्र शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों,उपराज्यपालों व प्रशासकों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेन्सिंग के ज़रिए संवाद किया

 
 

मिनिस्टर ऑफ़ कोऑपरेशन आज़ादी का अमृत महोत्सव देश के हर नागरिक के लिए गौरव का विषय है, आज़ादी के 75 सालों में हमारे देश ने ना केवल लोकतंत्र की जड़ों को गहरा किया है बल्कि विकास के हर पहलू की दृष्टि से आज हम विश्व में उचित स्थान पर खड़े हैं

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने आज़ादी के अमृत महोत्सव को एक नए तरीक़े से मनाने का संकल्प लिया है

‘हर घर तिरंगा’ देश के हर नागरिक के दिलोदिमाग़ में देशभक्ति की भावना को उच्चतम स्तर पर ले जाने का कार्यक्रम है

कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य जनभागीदारी के माध्यम से 13 से 15 अगस्त, 2022 के बीच सभी घरों में राष्ट्रीय ध्वज फहराना है, इस प्रयास में देश के सरकारी और निजी प्रतिष्ठान भी शामिल होंगे 

देश में 20 करोड़ से ज़्यादा घर और सौ करोड़ से अधिक लोग तीन दिन अपने घर पर तिरंगा फहराएंगे और तिरंगे के माध्यम से पुन: अपने आप को भारत माता की सेवा में समर्पित करेंगे 

इस कार्यक्रम की सफलता केवल विचार या आह्वान से नहीं हो सकती, इसे केन्द्र सरकार, राज्य सरकार व जनता की भागीदारी से ही जन-जन तक पहुंचाने का काम हम कर पाएँगे

20 करोड़ तिरंगे हर घर पर फहराना एक भगीरथ कार्य है और यह कार्यक्रम देश में देशभक्ति की एक नई भावना जगाने में बहुत बड़ा योगदान देगा 

इस वर्ष 22 जुलाई से हम सब अपने अपने होमपेज पर, हर राज्य की हर वेबसाइट और देश का प्रत्येक व्यक्ति अपने फ़ेसबुक, इंस्टाग्राम, ट्विटर और अन्य सोशल मीडिया अकाउंट के होमपेज पर तिरंगा लगाएँ 

प्रभात फेरी महात्मा गांधी की आज़ादी की लड़ाई का एक बहुत महत्वपूर्ण अंग था, 11 से 14 अगस्त तक प्रभात फ़ेरी के कार्यक्रम को हर गांव में मनाने के लिए सभी राजनीतिक दलों, सरकारी संस्थानों, एनजीओ, सहकारी समितियों को अपना योगदान देना चाहिए 

जब बच्चे, बूढ़े, युवा और किशोर मिलकर भारत माता का यशोगान करते हुए हाथ में तिरंगा लेकर गांव में एक घंटे तक प्रभात फेरी निकालेंगे तो तिरंगा लगाने का हमारा ये कार्यक्रम अपने आप ही सफल हो जाएगा 

राज्य सरकारों के सभी विज्ञापनों में‘हर घर तिरंगा’ का प्रचार किया जाए, राज्यों के मुख्यमंत्री टीवी चैनल्स और लोकल चैनल्स से निवेदन करें तो वे भी छोटे-छोटे कार्यक्रम कर इसे आगे ले जाएँ  

गांवों की सहकारी समिति और पीएसयू के माध्यम से भी इसका प्रचार करना चाहिए, हर व्यक्ति इस कार्यक्रम से जुड़ जाए इसके लिए हमें प्रचार के सभी माध्यमों का उपयोग करना चाहिए 

झंडे के उत्पादन के लिए भारत सरकार ने बहुत सारी व्यवस्थाएं की हैं, देश के पोस्ट ऑफ़िस में तीनों प्रकार के झंडे उपलब्ध होंगे, हर व्यक्ति ऑनलाइन भी तिरंगा ख़रीद सकता है  

देश की युवा पीढ़ी को देशभक्ति की भावना से ओतप्रोत करने और देश के बच्चों, किशोरों व युवाओं को आने वाले अनेक सालों तक देश के विकास, सुरक्षा और भविष्य के साथ जुड़ने का संस्कार देने का दायित्व हम सबका है 

 

केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री श्री अमित शाह ने आज़ादी का अमृत महोत्सव के अंतर्गत ‘हर घर तिरंगा’ अभियान के संबंध में आज राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों,उपराज्यपालों व प्रशासकों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेन्सिंग के ज़रिए संवाद किया। इस अवसर पर केन्द्रीय संस्कृति और पर्यटन मंत्री श्री जी किशनरेड्डी भी उपस्थित थे।

 

 

इस अवसर पर केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि आज़ादी का अमृत महोत्सव देश के हर नागरिक के लिए गौरव का विषय है औरआज़ादी के 75 सालों में हमारे देश ने ना केवल लोकतंत्र की जड़ों को गहरा किया है बल्कि विकास के हर पहलू की दृष्टि से आज हम विश्व में उचित स्थान पर खड़े हैं। आज़ादी के अमृत महोत्सव को देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने एक नए तरीक़े से मनाने का संकल्प लिया और इसके तीन उद्देश्य हैं। पहला, जिन नामी-बेनामी शहीदों ने देश की आज़ादी के लिए अपना सर्वस्व न्यौछावर किया, देश की युवा पीढ़ी को उनके और उनके बलिदान के बारे में जानकारी देकर देशभक्ति के संस्कार को सृजित करना। दूसरा, 75 सालों में हमने कई उपलब्धियां हासिल की हैं और कई क्षेत्रों में भारत आज दुनिया में शीर्ष स्थान पर है, ये वर्ष उन उपलब्धियों का महिमामंडन करने का वर्ष है। तीसरा, ये संकल्प का वर्ष है। देश के प्रधानमंत्री जी ने आज़ादी के अमृत महोत्सव से लेकर आज़ादी की शताब्दी तक के 25 साल के कालखंड को अमृत काल के रूप में मनाने का आह्वान किया है। अमृत काल में देश में हर क्षेत्र में आज़ादी की शताब्दी के समय हम कहां खड़े होंगे, ये 25 साल संकल्प सिद्धि का समय है।

 

श्री अमित शाह ने कहा कि ‘हर घर तिरंगा’ देश के हर नागरिक के दिलोदिमाग़ में देशभक्ति की भावना को उच्चतम स्तर पर ले जाने का कार्यक्रम है। देश में 20 करोड़ से ज़्यादा घर और सौ करोड़ से अधिक लोग तीन दिन अपने घर पर तिरंगा फहराएंगे और तिरंगे के माध्यम से पुन: अपने आप को भारत माता की सेवा में समर्पित करेंगे। केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री ने बताया कि इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य जनभागीदारी के माध्यम से 13 से 15 अगस्त, 2022 के बीच सभी घरों में राष्ट्रीय ध्वज फहराना है।इस प्रयास में देश के सरकारी और निजी प्रतिष्ठान भी शामिल होंगे। उन्होंने जोर देकर कहा कि तिरंगा फहराने से देश के प्रति देशभक्ति की भावना और मजबूत होने के साथ ही इससे यह भी सुनिश्चित होगा कि देश के बच्चे और युवा देश की आजादी के लिए अनगिनत शहीदों द्वारा किए गए बलिदानों से अवगत हो सकें।ये कार्यक्रम दुनियाभर में पहला ऐसा कार्यक्रम होगा जो किसी भी राष्ट्र ने अपनी आज़ादी या किसी और दिन को मनाने के लिए कभी नहीं मनाया होगा। इस कार्यक्रम की सफलता केवल विचार या आह्वान से नहीं हो सकती, इसे केन्द्र सरकार, राज्य सरकार व जनता की भागीदारी से ही जन-जन तक पहुंचाने का काम हम कर पाएँगे,तभी ये कार्यक्रम और इसका उद्देश्य भी सफल होगा। 20 करोड़ तिरंगे हर घर पर फहराना एक भगीरथ कार्य है और यह कार्यक्रम देश में देशभक्ति की एक नई भावना जगाने में बहुत बड़ा योगदान देगा।

 

 

 

केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि इस कार्यक्रम के तीन वर्टिकल्स हैं। पहला, प्रचार-प्रसार के माध्यम से सभी लोगों को इसके साथ जोड़ना और जन-जन तक इसे पहुंचाना। दूसरा, उत्पादन और तीसरा, घर घर पर झंडा लगाना। केन्द्र, राज्य सरकारों, ज़िला पंचायतों म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन, पंचायतों और व्यक्तियों को इन तीनों वर्टिकल्स के लिए काम करना होगा। इस वर्ष 22 जुलाई से हम सब अपने अपने होमपेज पर, हर राज्य की हर वेबसाइट और देश का प्रत्येक व्यक्ति अपने फ़ेसबुक, इंस्टाग्राम, ट्विटर और अन्य सोशल मीडिया अकाउंट के होमपेज पर तिरंगालगाएँगे तो इसका प्रचार-प्रसार अपने आप होगा।

श्री अमित शाह ने कहा कि प्रभात फेरी महात्मा गांधी की आज़ादी की लड़ाई का एक बहुत महत्वपूर्ण अंग था और11से 14 अगस्त तक प्रभात फ़ेरी के कार्यक्रम को हर गांव में मनाने के लिए सभी राजनीतिक दलों, सरकारी संस्थानों, एनजीओ, सहकारी समितियों को अपना योगदान देना चाहिए। प्रभात फ़ेरी ने ही स्वदेशी, भारत छोड़ो आंदोलन और सविनय अवज्ञा आंदोलन को घर-घर पहुंचाने का काम किया था। जब बच्चे, बूढ़े, युवा और किशोर मिलकर भारत माता का यशोगान करते हुए हाथ में तिरंगा लेकर गांव में एक घंटे तक प्रभात फेरी निकालते हैं तो तिरंगा लगाने का हमारा ये कार्यक्रम अपने आप हो जाएगा। श्री शाह ने कहा कि राज्य सरकारों के सभी विज्ञापनों में‘हर घर तिरंगा’ का प्रचार किया जाए, राज्यों के मुख्यमंत्री टीवी चैनल्स और लोकल चैनल्स से निवेदन करें तो वे भी छोटे-छोटे कार्यक्रम कर इसे आगे ले जाएँगे। गांवों की सहकारी समिति और पीएसयू के माध्यम से भी इसका प्रचार करना चाहिए। हर व्यक्ति इस कार्यक्रम से जुड़ जाए इसके लिए हमें प्रचार के सभी माध्यमों का उपयोग करना चाहिए।

 

 

 

केन्द्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री ने कहा कि दूसरा वर्टिकल है उत्पादन। इसके लिए भारत सरकार ने बहुत सारी व्यवस्थाएं की हैं। देश के पोस्ट ऑफ़िस में तीनों प्रकार के झंडे उपलब्ध हों, ऐसी व्यवस्था भारत सरकार ने की है। पोस्ट ऑफ़िस से भी आप अपना ऑर्डर बुक कर सकते हैं, वहां से हर नागरिक जाकर झंडा ख़रीद सकता है और ऑनलाइन ख़रीद की भी व्यवस्था है। राज्य सरकारों के लिए GEM पर तानों प्रकार के झंडे उपलब्ध हैं। राज्यों को उत्पादन में मदद करने के लिए भारत सरकार ने पर्याप्त व्यवस्था की है और इसे नागरिकों के बीच प्रचारित करने से वे अपने आप भी ऑनलाइन झंडा मंगा सकते हैं। राज्यों के सारे पीएसयू, राज्यों के सारे कर्मचारी, कोऑपरेटिव सोसायटी के सारे कर्मचारी, सारे सदस्य अगर इस मूवमेंट के साथ जुड़ जाते हैं तो हम 20 करोड़ के लक्ष्य को बहुत आसानी के साथ प्राप्त कर पाएंगे। उन्होंने कहा कि देश की युवा पीढ़ी को देशभक्ति की भावना से ओतप्रोत करने और देश के बच्चों, किशोरों व युवाओं को आने वाले अनेक सालों तक देश के विकास, सुरक्षा और भविष्य के साथ जुड़ने का संस्कार देने का दायित्व हम सबका है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने आज़ादी के अमृत महोत्सव के माध्यम से इसे आगे बढ़ाने का काम किया है। ये एक बहुत महत्वपूर्ण कार्यक्रम है क्योंकि अमृत महोत्सव के कार्यक्रम 15 अगस्त, 2023 तक चलने वाले हैं। अगर 15 अगस्त, 2022 को हम इसे शिखर तक ले जाते हैं तो 2022 से 2023 के दौरान हर घर में आज़ादी का अमृत महोत्सव, अमृत काल के लिए एक संकल्प और हर क्षेत्र में देश को सर्वोच्च स्थान पर पहुंचाने का हमारा संकल्प ज़रूर सिद्ध होगा।

 

बैठक के दौरान गुजरात, छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश, झारखंड, कर्नाटक, पंजाब, दिल्ली, नागालैंड, असम और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्रियों ने हर घर तिरंगा कार्यक्रम पर अपने विचार और सुझाव साझा किए।उन्होंने कार्यक्रम में अपने-अपने राज्यों के सभी घरों और प्रतिष्ठानों की पूर्ण भागीदारी का आश्वासन दिया। उन्होंने देश की आजादी के 75वें वर्ष में आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम शुरू करने के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व की प्रशंसा करते हुए आभार व्यक्त किया।