Back

Union Minister of Home Affairs and Minister of Cooperation, Shri Amit Shah will flag off the All India Car Rally 'Sudarshan Bharat Parikrama' of the National Security Guard (NSG) from the historic Red Fort in Delhi on Saturday under the ongoing 'AzadiKaAmritMahotsav'

Oct. 2, 2021
केन्द्रीय गृह और सहकारिता मंत्री श्री अमित शाह देश की ‘आज़ादी का अमृत महोत्सव’ के उपलक्ष्य में शनिवार को दिल्ली के ऐतिहासिक लाल क़िले से राष्ट्रीय सुरक्षा गारद (NSG) की अखिल भारतीय कार रैली  ‘सुदर्शन भारत परिक्रमा’ को हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे

श्री अमित शाह केन्द्रीय सशस्त्र पुलिस बलों (CAPFs)  की साइकिल रैलियां का स्वागत भी करेंगे, दांडी, उत्तरपूर्व और लेह से लेकर कन्याकुमारी तक देश के विभिन्नहिस्सों से शुरु हुई ये साइकिल रैलियां शनिवार को नई दिल्ली में सम्पन्न होंगी

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में भारत सरकार गुमनाम शहीदों व उनके बलिदान और स्वतंत्रता सेनानियों के जज़्बे को पुनर्जीवित कर उसे आज की युवा पीढ़ी में रोपित करने के लिए आज़ादी का अमृत महोत्सव मना रही है

कार्यक्रम में टोक्यो ओलिंपिक पदक विजेता श्री नीरज चोपड़ा, श्री रवि कुमार दहिया और श्री बजरंग पूनिया सम्मानित अतिथि के तौर पर शामिल होंगे

7500 किलोमीटर लंबी यात्रा के दौरान NSG की कार रैली 12 राज्यों के 18 शहरों में देश के स्वतंत्रता आंदोलन और स्वतंत्रता सेनानियों से जुड़े महत्वपूर्ण व ऐतिहासिक स्थानों से होकर गुज़रेगी और 30 अक्तूबर को नई दिल्ली स्थित पुलिस स्मारक पर रैली समाप्त होगी

15 अगस्त से शुरु हुई CAPFs की साइकिल रैलियों में अधिकारी और जवानों समेत करीब 900 साइकिल सवार शामिल हैं जो 21 राज्यों से लगभग 41,000 किलोमीटर का सफ़र
 
 
केन्द्रीय गृह और सहकारिता मंत्री श्री अमित शाह देश की आज़ादी की 75वीं वर्षगाँठ गांठ पर आयोजित ‘आज़ादी का अमृत महोत्सव’ के उपलक्ष्य में शनिवार, 2 अक्तूबर को दिल्ली के ऐतिहासिक लाल क़िले से राष्ट्रीय सुरक्षा गारद  (NSG) की अखिल भारतीय कार रैली ‘सुदर्शन भारत परिक्रमा’ को हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे।
 
साथ ही श्री अमित शाह केन्द्रीय सशस्त्र पुलिस बलों (CAPFs)  की साइकिल रैलियां का स्वागत भी करेंगे, दांडी, उत्तरपूर्व और लेह से लेकर कन्याकुमारी तक देश के विभिन्न हिस्सों से शुरु हुई ये साइकिल रैलियां शनिवार को नई दिल्ली में सम्पन्न होंगी। कार्यक्रम में टोक्यो ओलिंपिक पदक विजेता श्री नीरज चोपड़ा, श्री रवि कुमार दहिया और श्री बजरंग पूनिया सम्मानित अतिथि के तौर पर शामिल होंगे।इस अवसर पर भारत सरकार व पुलिस बलों के वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित रहेंगे।
 
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में भारत सरकार गुमनाम शहीदों व उनके बलिदान और स्वतंत्रता सेनानियों के जज़्बे को पुनर्जीवित कर उसे आज की युवा पीढ़ी में रोपित करने के लिए आज़ादी का अमृत महोत्सव मना  रही है। इसी के अंतर्गत अपनी 7500 किलोमीटर लंबी यात्रा के दौरान राष्ट्रीय सुरक्षा गारद की  कार रैली देश के स्वतंत्रता आंदोलन और स्वतंत्रता सेनानियों से जुड़े महत्वपूर्ण व ऐतिहासिक स्थानों से होकर गुज़रेगी और 30 अक्तूबर, 2021 को नई दिल्ली स्थित पुलिस स्मारक पर समाप्त होगी। अपनी यात्रा के दौरान एन.एस.जी. कार रैली देश के 12 राज्यों के 18 शहरों से होकर गुज़रेगी और काकोरी मेमोरियल (लखनऊ), भारत माता मंदिर (वाराणसी), नेताजी भवन बैरकपुर (कोलकाता), स्वराज आश्रम (भुवनेश्वर), तिलक घाट (चेन्नई), फ़्रीडम पार्क (बेंगलुरू), मणि भवन / अगस्त क्रांति मैदान (मुंबई) और साबरमती आश्रम (अहमदाबाद) जैसे ऐतिहासिक महत्व के अनेक स्थानों पर जाएगी।
 
आज़ादी के अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में केन्द्रीय सशस्त्र सुरक्षा बलों द्वारा  दांडी, उत्तरपूर्व और लेह से लेकर कन्याकुमारी तक देश के विभिन्न हिस्सों में साइकिल रैलियों का आयोजन किया जा रहा है। 15 अगस्त से शुरु हुई इन साइकिल रैलियों में अधिकारी और जवानों समेत करीब 900 साइकिल सवार शामिल हैं जो 21 राज्यों से लगभग 41,000 किलोमीटर का सफ़र तय करते हुए दिल्ली पहुँचेंगे। भारत
तिब्बत सीमा पुलिस बल ने एक साइकिल रैली का आयोजन किया जबकि केन्द्रीय रिज़र्व पुलिस बल ने चार, सशस्त्र सीमा बल ने दस, असम राइफ़ल्स ने एक, केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल ने नौ और सीमा सुरक्षा बल ने पंद्रह साइकिल
रैलियों का आयोजन किया।
 
केन्द्रीय गृह मंत्रालय के तत्वाधान में आयोजित इन रैलियों का उद्देश्य देश की आज़ादी की 75वीं वर्ष गांठ को ‘आज़ादी का अमृत महोत्सव’ के रूप में मनाना, स्वतंत्रता आंदोलन से जुड़े ऐतिहासिक स्थलों का दौरा करके आपसी भाईचारे का संदेश प्रसारित करना, युवाओं से मिलकर देश की एकता और अखंडता को बनाए रखने हेत उन्हें राष्ट्रभक्ति के लिए प्रेरित करना, स्वतंत्रता आंदोलन से जुड़े सभी देशभक्तों और शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करना तथा  द शवासियों व युवाओं में राष्ट्रीय एकता, देशभक्ति और भाईचारे की भावना मज़बूत करना है।