Salient Points of Karyakartas Sammelan in Supaul Bihar

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह द्वारा बिहार के सुपौल में कार्यकर्ता सम्मलेन में दिए गए संबोधन के मुख्य अंश

पिछले 15 महीनों में हमने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में देश में विकास की एक नई इबारत लिखी है: अमित शाह
**************
देश के विकास में बिहार के युवाओं का योगदान अतुलनीय है: अमित शाह
**************
श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में हम बिहार के विकास के लिए प्रतिबद्ध हैं: अमित शाह
**************
बिहार लोकतंत्र की जननी है: अमित शाह
**************
हमारा एक ही मकसद है - प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में गरीबों, शोषितों और वंचितों का विकास और उनके जीवन स्तर में सुधार: अमित शाह
**************
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में देश की सीमायें सुरक्षित हैं और देश के दुश्मनों को उन्हीं की भाषा में जवाब दिया जा रहा है: अमित शाह
**************
श्री नीतीश कुमार के एक कंधे पर तो जंगलराज के प्रतीक श्री लालू जी हैं वहीं दूसरे कंधे पर 12 लाख करोड़ का घोटाला करनेवाली कांग्रेस है: अमित शाह
**************
श्री नीतीश कुमार ने बिहार की जनता के साथ विश्वासघात किया है और जनादेश का अपमान किया है: अमित शाह
**************
प्रधानमंत्री का दुनिया में अभूतपूर्व स्वागत और मान-सम्मान देश की 125 करोड़ जनता का सम्मान है: अमित शाह
**************

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने आज बुधवार को बिहार के सुपौल में भाजपा कार्यकर्ताओं के सम्मलेन को सम्बोधित किया और कार्यकर्ताओं से बिहार में इस बार प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा की अगुआई वाली दो-तिहाई बहुमत की राजग सरकार बनाने की अपील की।

श्री शाह ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी कार्यकर्ताओं और सांस्कृतिक राष्ट्रवाद एवं एकात्म मानववाद की विचारधारा के जरिये देश में विकास का परिवर्तन लाने के लिए बनी पार्टी है। उन्होंने कहा कि भाजपा के जीत की नींव में पार्टी के समर्पित कार्यकर्ता हैं और अपने कार्यकर्ताओं के बल पर ही 10 सदस्यों से शुरू हुई भाजपा आज 11 करोड़ से अधिक सदस्यों के साथ दुनिया की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी बनी है।

भाजपा अध्यक्ष ने कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि बिहार लोकतंत्र की जननी है और इस बार का बिहार चुनाव देश के लोकतंत्र के लिए काफी महत्त्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि जो बिहार कभी विश्व के एक बड़े भू-भाग पर शासन किया करता था, जो राज्य सम्राट चन्द्रगुप्त, समुद्रगुप्त और चाणक्य की धरती थी, जहां सिकंदर ने भी आकर अपने घुटने टेके थे, जहां पर अर्थशास्त्र और व्याकरण लिखे गए, जो विश्व शिक्षा का सबसे प्रतिष्ठित केंद्र था, वैशाली गणराज्य के रूप में जिस राज्य ने दुनिया को सबसे पहली लोकतांत्रिक व्यवस्था वाली सरकार दी, आज वह विकास के क्षेत्र में देश के अन्य राज्यों की तुलना में काफी पिछड़ गया है।

श्री शाह ने कहा कि बिहार पर ईश्वर की अहैतु कृपा है, माँ गंगा यहां धरती को सींचती है, यहां मेहनती और परिश्रमी किसान हैं, यहां के युवाओं पर माँ सरस्वती का वरदान है, फिर भी आज बिहार विकास में पिछड़ क्यों गया है? उन्होंने कहा कि अभी तक गाँवों में बिजली नहीं पहुँची है, अच्छी सड़कें नहीं हैं, विद्यालयों का अभाव है, अच्छी शिक्षा व्यवस्था नहीं है, अस्पताल और दवाइयों की व्यवस्था नहीं है, युवा कमाई, दवाई और पढ़ाई के लिए राज्य से पलायन कर रहे हैं, किसानों की हालत दयनीय है, उन्हें समय पर मुआवजा नहीं मिलता। उन्होंने कहा कि देश के विकास में बिहार के युवाओं का योगदान अतुलनीय है, इतने मेधावी युवाओं के बावजूद राज्य का विकास नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि पिछले 25 वर्षों में देश ने काफी तरक्की की है, लेकिन श्री लालू यादव, श्री नीतीश कुमार और कांग्रेस ने मिलकर पिछले 25 वर्षों में बिहार को बदहाल कर दिया है और विडम्बना देखिये कि जंगलराज और भ्रष्टाचार के प्रतीक ये लोग विकास की बात करते हैं।

श्री शाह ने कहा कि हमने बिहार के विकास के लिए और बिहार को जंगलराज से मुक्ति दिलाने के लिए श्री नीतीश कुमार को समर्थन दिया था, लेकिन प्रधानमंत्री बनने की अति महत्त्वाकांक्षा में श्री नीतीश कुमार ने बिहार में विकास की सरकार का गठबंधन तोड़ दिया और इतना ही नहीं, उन्होंने फिर से जंगलराज के प्रतीक श्री लालू यादव से केवल सत्ता में बने रहने की खातिर हाथ मिला लिया। श्री शाह ने कहा कि श्री नीतीश कुमार ने बिहार की जनता के साथ विश्वासघात किया है और जनादेश का अपमान किया है।

श्री लालू यादव और श्री नीतीश कुमार के अनैतिक गठबंधन पर कटाक्ष करते हुए भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि श्री नीतीश कुमार और श्री लालू यादव ने लोकनायक जयप्रकाश नारायण के आंदोलन से देश की राजनीति में कदम रखा और गैर-कांग्रेसवाद की राजनीति कर देश की राजनीति में आगे बढ़े लेकिन कुर्सी की खातिर उनके सिद्धांतों की तिलांजलि देकर कांग्रेस से समझौता कर लिया, दलित को मुख्यधारा में लाने की बात कहकर श्री नीतीश कुमार ने श्री जीतन राम मांझी को राज्य की सत्ता सौंपी, लेकिन फिर उन्होंने दलित को अपमानित कर सत्ता से बेदखल कर दिया और खुद कुर्सी पर जा बैठे, श्री नीतीश कुमार ने राजनीति में इनको आगे बढ़ाने वाले जार्ज फर्नांडीज तक के साथ विश्वासघात किया। श्री शाह ने कहा कि अहंकार और सत्ता मोह में अंधे बने श्री नीतीश कुमार राज्य में कैसे विकास की बात कर सकते हैं। श्री शाह ने कहा कि अब राज्य के लोगों का भरोसा श्री नीतीश कुमार से उठ चुका है। श्री शाह ने कहा कि श्री नीतीश कुमार के एक कंधे पर तो जंगलराज के प्रतीक श्री लालू जी हैं वहीं दूसरे कंधे पर 12 लाख करोड़ का घोटाला करनेवाली कांग्रेस है। उन्होंने कहा कि यदि महागठबंधन जीतता है तो बिहार में फिर से जंगलराज आयेगा। उन्होंने कहा कि राज्य की जनता ने बारी बारी से कांग्रेस, लालू जी और श्री नीतीश कुमार को मौक़ा दिया, लेकिन इसके बावजूद राज्य विकास में सबसे पीछे है। उन्होंने कहा कि आप एक मौक़ा भाजपा को दीजिये, मैं विश्वास दिलाता हूँ कि श्री नरेन्द्र भाई मोदी के नेतृत्व में हम बिहार को देश का सर्वोत्तम प्रदेश बनायेंगें।

श्री शाह ने कहा कि विकास किसे कहते हैं, यह हमने श्री नरेन्द्र भाई मोदी के नेतृत्व में करके दिखाया है। उन्होंने कहा कि भाजपा की परम्परा विकास की परम्परा रही है। उन्होंने कहा कि हम विकास के ही बल पर हर राज्यों में बारम्बार चुनकर आते हैं, लगातार विभिन्न चुनावों में हमें विजय श्री मिलती है और जनता श्री नरेन्द्र भाई के विकासवाद में अपनी आस्था व्यक्त करती है। उन्होंने कहा कि यह फैसला बिहार की जनता को करना है कि उन्हें प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में बिहार में विकास के पथ पर आगे बढ़ना है या जंगलराज 2 में लौटना है। उन्होंने कहा कि भाजपा ने हमेशा से विकास के राजनीति की है और हमारा एक ही मकसद है - गरीबों, शोषितों और वंचितों का विकास और उनके जीवन स्तर में सुधार। उन्होंने कहा कि पिछले 15 महीनों में हमने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में विकास की एक नई इबारत लिखी है और देश में एक बड़ा परिवर्तन लाने की कोशिश की है, चाहे देश के 15 करोड़ परिवारों का प्रधानमंत्री जन-धन योजना के अंतर्गत बैंक खाता खोलना हो या 12 और 330 रुपये में जीवन सुरक्षा और जीवन ज्योति बीमा या फिर देश के गरीब-गुरबों के छोटे-मोटे रोजगार के लिए प्रधानमंत्री मुद्रा बैंक योजना के माध्यम से उन्हें आसान ऋण उपलब्ध कराना, हमारी सारी योजनाएं गरीबों के कल्याण के लिए ही समर्पित हैं.

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में देश की सीमायें सुरक्षित हैं और दुश्मनों को उन्हीं की भाषा में जवाब दिया जा रहा है। राहुल गांधी के द्वारा सीमा पर होनेवाली गोलीबारी के ऊपर लगाए गए आरोपों पर पलटवार करते हुए श्री शाह ने कहा, "पहले सीमाओं पर गोलीबारी की शुरुआत पाकिस्तानी सेना करती थी और खत्म भी वही करती थी। आज शुरुआत पाकिस्तानी सेना करती है लेकिन खत्म करती है भारतीय सेना। राहुल जी को समझना चाहिए कि यह कितना बड़ा फर्क है।"

श्री शाह ने आगे बोलते हुए कहा कि आज भारतीय प्रधानमंत्री के स्वागत के लिए पूरा विश्व लालायित रहता है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री का दुनिया में अभूतपूर्व स्वागत और मान-सम्मान देश की 125 करोड़ जनता का सम्मान है। उन्होंने कहा कि श्री नरेन्द्र भाई मोदी ने संयुक्त राष्ट्र संघ में हिन्दी में भाषण देकर विश्व में हमारी राष्ट्रभाषा का भी मान बढ़ाने का काम किया है।

श्री शाह ने श्री नीतीश कुमार पर बिहार को दिए गए विशेष पैकेज पर राजनीति करने का आरोप लगाते हुए कहा कि श्री नरेन्द्र मोदी जी ने बिहार के विकास के लिए 1 वर्ष में ही 1.65 लाख करोड़ रुपये की राशि दी जो बिहार के तीन वर्षों के बजट के बराबर है। उन्होंने श्री नीतीश कुमार से पूछा कि आप लोगों ने पिछले 25 वर्षों में बिहार के विकास के लिए कया किया।

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने कहा कि बिहार में भाजपा की अगुआई में राजग सरकार के बनने के बाद सीमांचल का विकास और देशभक्तों के साथ हो रहे अन्याय को रोकना हमारी सबसे बड़ी प्राथमिकता होगी। उन्होंने कहा कि अगर बिहार में 24 घंटे बिजली चाहिए, बिहार में निवेश चाहिए, महिलाओं का सम्मान चाहिए, कानून व्यवस्था अच्छी होनी चाहिए, रोजगार के पर्याप्त अवसर बनने चाहिए, यदि राज्य को अपराध, भ्रष्टाचार और जंगलराज से मुक्ति चाहिए तो बिहार की जनता को एकमत से फैसला करके राज्य में दो-तिहाई की पूर्ण बहुमत से भाजपा-नीत सरकार बनानी होगी। उन्होंने कहा कि श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में हम बिहार के विकास के लिए प्रतिबद्ध हैं।

(इंजी. अरुण कुमार जैन)
कार्यालय सचिव

Download PDF