Salient Points : Addressing Public Meetings at Naoboicha, Dhakuakhana, Sootea & Dhekiajuli, Assam

Monday, 28 March 2016


भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह द्वारा असम के नाओबोइचा, धकुआखाना, सोतिया और ढेकियाजुली की रैली में दिए गए संबोधन के मुख्य बिंदु

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्त्व में हम ‘ए फॉर असम’ की परिकल्पना को साकार करने के लिए काम करना चाहते हैं: अमित शाह
*************
अगर हमें भूपेन दा के सपनों का असम बनाना है, असम को देश का सबसे समृद्ध राज्य बनाना है तो हमें राज्य में भाजपा की सरकार बनानी होगी: अमित शाह
*************
असम का आनंद सर्बानंद में समाहित है: अमित शाह
*************
गोगोई जी अब थक गए हैं, उन्हें आराम दिया जाना चाहिए: अमित शाह
*************
कच्छ हो या गुवाहाटी, अपना देश अपनी माटी: अमित शाह
*************
अगर कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी में हिम्मत है तो बस एक बार वह यह तो बोलें कि वे असम में घुसपैठ पूरी तरह से रोक देंगें: अमित शाह
*************
गोगोई जी और बदरुद्दीन अजमल दिन में तो एक दूसरे के खिलाफ बयानबाजी करते हैं लेकिन रात में मिलकर सरकार बनाने की तैयारी करते हैं: अमित शाह
*************
यदि भाजपा-गठबंधन की सरकार राज्य में आयी तो बांग्लादेश के साथ राज्य की लगने वाली सीमा को इस तरह सील कर दिया जाएगा कि परिंदा भी पर मार नहीं सकेगा: अमित शाह
*************
असम में पिछले 15 सालों से तरुण गोगोई ने राज्य की जनता की भलाई के लिए कुछ नहीं किया, बस जनता का पैसा खाकर अपनी तिजोरी भरने का काम किया है: अमित शाह
*************
यदि असम की पारम्परिक संस्कृति एवं इसके प्राकृतिक सौंदर्य का सही तरीके से विकास किया जाता तो असम भारत का एक महत्त्वपूर्ण टूरिस्ट डेस्टिनेशन होता: अमित शाह
*************
कांग्रेसी सरकारों के ठीक उलट देश में जहां - जहां भाजपा की सरकारें हैं, हमने वहां हर क्षेत्र में विकास करके दिखाया है: अमित शाह
*************

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष, श्री अमित शाह ने आज, सोमवार को असम के नाओबोइचा, धकुआखाना, सोतिया और ढेकियाजुली में विशाल जनसभाओं को संबोधित किया और राज्य की जनता से भ्रष्टाचार में आकंठ डूबी हुई कांग्रेस की तरुण गोगोई सरकार को जड़ से उखाड़ कर भारतीय जनता पार्टी की अगुआई में एवं श्री सर्बानंद सोनोवाल के नेतृत्व में एक मजबूत और विकसित असम के नवनिर्माण का आह्वान किया।

जनता को सम्बोधित करते हुए श्री शाह ने कहा कि हम असम की अस्मिता और यहाँ के लोगों के अधिकारों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध हैं, हम हर परिस्थिति में असम की जनता के साथ खड़े हैं - कच्छ हो या गुवाहाटी, अपना देश अपनी माटी। राज्य में घुसपैठ की समस्या पर कांग्रेस को आड़े-हाथों लेते हुए भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि असम के युवाओं की सारी रोजगारी तो बांग्लादेशी घुसपैठिए छीन लेते हैं। उन्होंने कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी को खुली चुनौती देते हुए कहा कि अगर उनमें हिम्मत है तो बस एक बार वह यह तो बोलें कि वे असम में घुसपैठ पूरी तरह से रोक देंगें। श्री शाह ने कहा कि श्रीमती सोनिया गांधी और श्री राहुल गांधी ऐसा नहीं बोल सकते क्योंकि कांग्रेस ने हमेशा से वोट बैंक की राजनीति की है और उन्हें बस वोट चाहिए। उन्होंने कहा कि गोगोई जी और एआईयूडीएफ के चीफ बदरुद्दीन अजमल दिन में तो एक दूसरे के खिलाफ बयानबाजी करते हैं लेकिन रात में मिलकर सरकार बनाने की तैयारी करते हैं, ऐसे में कांग्रेस से असम में घुसपैठ की समस्या पर अंकुश लगाने की अपेक्षा ही कैसे की जा सकती है। उन्होंने कहा कि देश की सुरक्षा की चिंता कांग्रेस और असम सरकार को है ही नहीं। उन्होंने कहा कि यदि भाजपा-गठबंधन की सरकार राज्य में आयी तो बांग्लादेश के साथ राज्य की लगने वाली सीमा को इस तरह सील कर दिया जाएगा कि परिंदा भी पर मार नहीं सकेगा। उन्होंने कहा कि घुसपैठ की समस्या देश की सुरक्षा के लिए ख़तरा है और हम देश की सीमाओं को सुरक्षित रखने के लिए कृतसंकल्पित हैं।

श्री शाह ने कहा कि आखिर क्यों पिछले 15 सालों से राज्य में कांग्रेस की ही तरुण गोगोई सरकार तथा 10 वर्षों तक असम से ही प्रधानमंत्री रहने के बावजूद असम विकास के दौर में पिछड़ता ही चला गया? उन्होंने कहा कि भाजपा की केंद्र सरकार असम के विकास के लिए लाखों करोड़ों रूपया देती है लेकिन यह पैसा राज्य की जनता की भलाई के लिए खर्च ही नहीं किये जाते। उन्होंने कहा कि असम में पिछले 15 सालों से तरुण गोगोई ने राज्य की जनता की भलाई के लिए कुछ नहीं किया, बस जनता का पैसा खाकर अपनी तिजोरी भरने का काम किया है। उन्होंने कहा कि असम में अभी भी एक करोड़ से अधिक लोग गरीबी रेखा से नीचे गुजर-बसर करने को मजबूर हैं, लोगों के पास पीने योग्य पानी नहीं है, बिजली नहीं है, स्कूल और अस्पताल नहीं है, सड़कें नहीं है लेकिन असम की भ्रष्टाचारी कांग्रेस सरकार इस सब से आँखें मूँदे बैठी है। उन्होंने गोगोई सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि असम की कांग्रेस सरकार ने राज्य को बाढ़ के प्रकोप से निजात दिलाने के लिए पिछले 15 वर्षों में कुछ भी नहीं किया, इतना ही नहीं, यहां की लोक संस्कृति को भी बढ़ावा देने की कोई पहल कांग्रेस सरकार द्वारा नहीं की गई। उन्होंने कहा कि यदि असम की पारम्परिक संस्कृति एवं इसके प्राकृतिक सौंदर्य का सही तरीके से विकास किया जाता तो असम भारत के सबसे महत्त्वपूर्ण टूरिस्ट डेस्टिनेशन में से एक होता। श्री शाह ने कहा कि कांग्रेसी सरकारों के ठीक उलट देश में जहां - जहां भाजपा की सरकारें हैं, हमने वहां हर क्षेत्र में विकास करके दिखाया है। उन्होंने कहा कि विकास को हर गाँव तक, हर गरीब तक पहुँचा कर हमने विकास का एक नया मानक स्थापित किया है। श्री शाह ने कहा कि हम राज्य में विकास लाना चाहते हैं, अच्छी शिक्षा की व्यवस्था करना चाहते हैं, राज्य को बाढ़ से मुक्ति दिलाना चाहते हैं, घर-घर बिजली और शुद्ध पीने योग्य पानी पहुंचाना चाहते हैं, दवाई और अस्पताल की व्यवस्था करना चाहते हैं, हम ‘ए फॉर असम’ की परिकल्पना को साकार करने के लिए काम करना चाहते हैं।

भाजपा अध्यक्ष श्री अमित शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी असम का विकास करना चाहते हैं लेकिन असम में एक ऐसी सरकार चाहिए जो केंद्र से कंधे-से-कंधा मिलाकर काम करे, पाई-पाई का हिसाब दे और राज्य की जनता की भलाई के लिए काम करे और वह सरकार केवल भारतीय जनता पार्टी ही दे सकती है। उन्होंने कहा कि अगर राज्य में सही तरीके से काम करनेवाली सरकार आई तो असम अगले पांच वर्षों में भारत का सबसे समृद्ध राज्य बन सकता है। श्री शाह ने कहा कि गोगोई जी अब थक गए हैं, उन्हें आराम दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि असम का आनंद सर्बानंद में समाहित है। उन्होंने जनता से अपील करते हुए कहा कि आप श्री सर्बानंद को मुख्य्मंत्री बनाइये, राज्य में सर्वत्र आनंद ही आनंद छाएगा। उन्होंने जनता से अपील करते हुए कहा कि अगर हमें भूपेन दा के सपनों का असम बनाना है तो आप भूपेन दा की सलाह मानें, पुरानी सरकार बदलें और भाजपा की सरकार लाएं। उन्होंने जनता को संबोधित करते हुए कहा कि आप इस चुनाव में इतने जोर से बटन दबाएं कि बटन तो यहां दबे लेकिन करंट इटली में लगे।


Download PDF