Salient Points of Speech in Public Meetings at Kewati, Jhanjharpur, Chhajna, Pipra and Saharsa, Bihar

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह द्वारा बिहार के केवटी, झंझारपुर, छजना, पिपरा और सहरसा की रैली में दिए गए संबोधन के मुख्य अंश

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बिहार को विकसित बनाने को तैयार हैं, लेकिन नीतीश-लालू की बड़े भाई-छोटे भाई की जोड़ी को बिहार का विकास मंजूर नहीं है, वे तो यहाँ जंगलराज व भ्रष्टाचार चाहते हैं: अमित शाह
*************
हम प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के 'सबका साथ - सबका विकास' की अवधारणा के साथ समाज के हर वर्गों के कल्याण के लिए कृतसंकल्प हैं: अमित शाह
*************
बिहार का मतलब नीतीश कुमार नहीं होता है, बिहार का मतलब यहाँ रहने वाले 11 करोड़ लोग हैं: अमित शाह
*************
नीतीश कुमार कहते हैं कि वे ही बिहारी हैं, क्या राज्य की जनता बिहारी नहीं है: अमित शाह
*************
महागठबंधन के नेता राज्य के दलितों, महादलितों, पिछड़ों और अतिपिछड़ों को भारतीय संविधान द्वारा दिए गए आरक्षण में कटौती करने के षड़यंत्र रच रहे हैं: अमित शाह
*************
नीतीश, लालू और राहुल को यह जवाब देना चाहिए कि वह अल्पसंख्यकों को 9% आरक्षण, दलितों-महादलितों के आरक्षण के हिस्से से काटकर देंगें या फिर राज्य के पिछड़ों-अतिपिछड़ों के वर्तमान आरक्षण में कटौती करेंगें: अमित शाह
*************
यह कैसी विडम्बना है कि महास्वार्थबंधन के बिहार में 60 सालों के शासनकाल के बावजूद राज्य के युवा दवाई, कमाई और पढ़ाई के लये पलायन को मजबूर हैं: अमित शाह
*************
बिहार में सिवाय भ्रष्टाचार, जातिवाद और भाई-भतीजावाद के और कुछ भी नहीं हुआ है: अमित शाह
*************
यह कैसी विडम्बना है कि महास्वार्थबंधन के बिहार में 60 सालों के शासनकाल के बावजूद राज्य के युवा दवाई, कमाई और पढ़ाई के लये पलायन को मजबूर हैं: अमित शाह
*************
लालू-नीतीश की बड़े भाई-छोटे भाई की जोड़ी बिहार चुनाव को अगड़ी जाति बनाम पिछड़ी जाति का चुनाव बनाना चाहते हैं जबकि भाजपा अगड़े बिहार बनाम पिछड़े बिहार की राजनीति करने में यकीन रखती है: अमित शाह
*************
हमने पिछड़े राज्यों को विकसित करके दिखाया है, विकास ही हमारी कार्यसंस्कृति रही है: अमित शाह
*************
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा बिहार के विकास के लिए दिए गए विशेष पैकेज पर बिहार के युवाओं, गरीबों, किसानों और महिलाओं का अधिकार है और हम उनका अधिकार उन्हें विनम्रता पूर्वक लौटाने आये है: अमित शाह
*************
नीतीश कुमार के आँखों पर अहंकार का चश्मा लग गया है और उन्हें राज्य की सत्ता के अलावा और कुछ नहीं दिखाई देता: अमित शाह
*************
लालू यादव काला कबूतर और कौआ काटने की बात कहते हैं, क्या इससे बिहार का विकास होगा, क्या लोगों के घरों में बिजली आएगी, नौजवानों को रोजगार मिलेगा: अमित शाह
*************
.

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने आज शनिवार को बिहार के केवटी, झंझारपुर, छजना, पिपरा और सहरसा की रैली को सम्बोधित किया और राज्य की जनता से बिहार से जंगलराज और भ्रष्टाचार को मिटाकर राज्य में दो-तिहाई की बहुमत से भाजपा की अगुआई में राजग सरकार बनाने की अपील की।

‘बिहारी बनाम बाहरी’ मुद्दे पर नीतीश कुमार और लालू यादव को आड़े हाथों लेते हुए भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि बिहार का मतलब नीतीश कुमार नहीं होता है, बिहार का मतलब यहाँ रहने वाले 11 करोड़ लोग हैं। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार कहते हैं कि वे ही बिहारी हैं, क्या राज्य की जनता बिहारी नहीं है? उन्होंने कहा, "नीतीश कुमार कहते हैं कि बिहार को बिहारी ही चला सकता है, मैं भी यही बात करता हूँ लेकिन वह बिहारी भाजपा का होगा। नीतीश कुमार खुद को बिहार समझने की भूल ना करें, बिहार की जनता इस विधान सभा चुनाव में नीतीश कुमार द्वारा राज्य की जनता के जनादेश का अपमान किये जाने का बदला लेने के लिए तैयार है।" उन्होंने कहा कि वर्तमान नीतीश सरकार की विदाई तय है और आनेवाले 8 नवंबर को बिहार में भाजपा की अगुआई में राजग की लोक-कल्याणकारी सरकार बनने जा रही है।

भाजपा अध्यक्ष श्री अमित शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बिहार को विकसित बनाने को तैयार हैं, लेकिन नीतीश-लालू की बड़े भाई-छोटे भाई की जोड़ी को बिहार का विकास मंजूर नहीं है, वे तो यहाँ जंगलराज व भ्रष्टाचार चाहते हैं। उन्होंने कहा कि 25 वर्षों तक लालू यादव और नीतीश कुमार ने बिहार को लूटने का काम किया है, समाज को बाँटने की कोशिश की है और राज्य के विकास को अवरुद्ध कर अपनी राजनीतिक महत्त्वाकांक्षा को हवा देने का काम किया है। उन्होंने कहा कि इन 25 सालों में देश ने आर्थिक प्रगति की नई मिसाल कायम की है, कई राज्यों ने विकास के नए आयाम स्थापित किये हैं और गरीबों, पिछड़ों और दलितों की भलाई के लिए अनेकों काम हुए हैं पर बिहार विकास की दौड़ में पिछड़ता ही चला गया है। लालू यादव पर कटाक्ष करते हुए श्री शाह ने कहा कि बिहार में सिवाय भ्रष्टाचार, जातिवाद और भाई-भतीजावाद के और कुछ भी नहीं हुआ है, न तो यहाँ उद्योग-कारखाने लेंगे हैं, न शुद्ध पीने का पानी उपलब्ध है, न अस्पतालें हैं और न ही चिकित्सक, अच्छी शिक्षा तक यहाँ के बच्चों को मय्यस्सर नहीं है।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि बिहार में विधान सभा चुनाव की सुगबुगाहट शुरू होते ही महागठबंधन के नेताओं द्वारा अगड़ी जाति-पिछड़ी जाति का कार्ड खेला जाना शुरू हो गया, ये लोग बिहार चुनाव को अगड़ी जाति बनाम पिछड़ी जाति का चुनाव बनाना चाहते हैं जबकि भाजपा अगड़े बिहार बनाम पिछड़े बिहार की राजनीति करने में यकीन रखती है। उन्होंने कहा कि हम प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के 'सबका साथ - सबका विकास' की अवधारणा के साथ समाज के हर वर्गों के कल्याण के लिए कृतसंकल्प हैं। उन्होंने कहा कि यह बिहार की जनता को तय करना है कि उन्हें अगड़ा बिहार चाहिए या पिछड़ा बिहार। उन्होंने जनता को संबोधित करते हुए कहा कि बिहार को अगड़ा राज्य भाजपा ही बना सकती है।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा, "यह कैसी विडम्बना है कि महास्वार्थबंधन के बिहार में 60 सालों के शासनकाल के बावजूद राज्य के युवा दवाई, कमाई और पढ़ाई के लये पलायन को मजबूर हैं।" उन्होंने कहा कि बिहार की जनता ने 35 साल कांग्रेस को दिए, 15 साल लालू यादव को दिया और 10 वर्षों से नीतीश कुमार को भी झेला है लेकिन बिहार में विकास का सूत्रपात नहीं हुआ। उन्होंने जनता से इस बार भाजपा को मौक़ा दिए जाने की अपील करते हुए कहा कि आप केवल 5 वर्षों के लिए भाजपा की अगुआई में राजग को बिहार में जनता की सेवा करने का मौक़ा दीजिये, हम बिहार को देश का सर्वोत्तम प्रदेश बनाकर इसे जनता के चरणों में समर्पित करेंगें।

उन्होंने कहा कि हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि हमने पिछड़े राज्यों को विकसित करके दिखाया है, हमारी विकास की ही कार्यसंस्कृति रही है। उन्होंने कहा कि बिहार के पास प्राकृतिक संसाधनों की कोई कमी नहीं है, यहाँ मेहनतकश किसान हैं, प्रतिभाशाली युवाओं की जमात है, माँ गंगा की अहैतु कृपा है, फिर भी बिहार विकास में इतना पीछे क्यों है - यह समझ से परे है। उन्होंने कहा कि देश के विकास के मूल में बिहार के युवाओं का पसीना है लेकिन बिहार का युवा राज्य का विकास करने में सफल नहीं हो पा रहा। उन्होंने कहा कि हम ऐसा बिहार बनाना चाहते हैं जहाँ युवाओं को रोजगार के लिए बाहर जाने पर विवश होना पड़े, किसानों को उनके फसलों का उचित मूल्य मिले, अच्छी शिक्षा और बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएँ हो और समाज के सभी वर्गों के सर्वांगीण विकास की योजनाएँ बने एवं सही तरीके से उसका क्रियान्वयन हो।

भाजपा अध्यक्ष ने जनता को जंगलराज की याद दिलाते हुए कहा कि लालू यादव के 15 सालों के जंगलराज केअत्याचार को लोग अभी तक भूले नहीं हैं। उन्होंने कहा कि लगातार 20 वर्षों तक नीतीश कुमार लालू जी के जंगलराज का विरोध करते रहे लेकिन सत्ता में बने रहने के लिए आज वह लालू जी के गोद में भी बैठने से नहीं हिचके। उन्होंने कहा कि जनता ने जंगलराज के खिलाफ ही भाजपा और नीतीश कुमार को जनादेश दिया था लेकिन प्रधानमंत्री बनने की अति महत्त्वाकांक्षा में नीतीश कुमार ने भाजपा के साथ ही नहीं, बल्कि राज्य की जनता के जनादेश के साथ भी विश्वासघात किया है और उनके पीठ में छुरा घोंपा है। उन्होंने जनता को आगाह करते हुए कहा कि नीतीश कुमार तो केवल मुखौटा हैं, उनके पीछे तो लालू यादव का जंगलराज-2 हैं। उन्होंने कहा कि यदि गलती से भी राज्य में नीतीश-लालू की जोड़ी सत्ता में आती है तो इससे सबसे ज्यादा खुशी शहाबुद्दीन जैसे अपराधी लोगों को होगी। भ्रष्टाचार के मुद्दे पर नीतीश कुमार को घेरते हुए भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि नीतीश कुमार कहा करते थे कि राज्य में भ्रष्टाचार में लिप्त जो भी नेता, मंत्री या विधायक पकड़ा जाएगा, उनकी संपत्ति को जब्त कर नीलाम किया जाएगा। उन्होंने कहा कि लालू जी को अदालत ने भी अपराधी सिद्ध कर दिया है, फिर क्यों उनकी संपत्ति जब्त कर नीलाम नहीं की जाती? नीतीश के मंत्री और विधायक सरेआम बिहार बेचने की कोशिश में लगे हुए हैं, क्यों नीतीश कुमार उनकी सम्पत्तियों को जब्त नहीं करते? आखिर नीतीश कुमार चुप क्यों हैं?" उन्होंने कहा कि यह बिहार की जनता को तय करना है कि उन्हें बिहार में विकासराज चाहिए या आतंकराज।

भाजपा अध्यक्ष ने आरक्षण के मुद्दे पर लालू यादव और नीतीश कुमार को आरक्षण पर भाजपा के खिलाफ दुष्प्रचार का आरोप लगाते हुए कहा कि महागठबंधन के नेता राज्य के दलितों, महादलितों, पिछड़ों और अतिपिछड़ों को भारतीय संविधान द्वारा दिए गए आरक्षण में कटौती करने के षड़यंत्र रच रहे हैं। उन्होंने कहा कि लालू-नीतीश की जोड़ी को यह जवाब देना चाहिए कि वह अल्पसंख्यकों को 9% आरक्षण दलितों-महादलितों के आरक्षण के हिस्से से काटकर देंगें या फिर राज्य के पिछड़ों-अतिपिछड़ों के वर्तमान आरक्षण में कटौती करेंगें। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी शुरू से ही वर्तमान आरक्षण व्यवस्था की पक्षधर रही है और वह इस पर किसी भी प्रकार के बदलाव के पक्ष में नहीं है। उन्होंने कहा कि आरक्षण को लेकर झूठी अफवाहें फैलाकर लालू व नीतीश लोगों को गुमराह करने का प्रयास कर रहे हैं लेकिन बिहार की जनता अब ठगे जाने के मूड में नहीं है।

भाजपा अधयक्ष ने बिहार में अपनी विकास की प्रतिबद्धता दर्शाते हुए कहा कि प्रधानमंत्री बनने के 15 महीनों के भीतर ही श्री नरेन्द्र भाई मोदी ने प्रधानमंत्री बनने के 15 महीनों के अंदर ही उन्होंने बिहार के सर्वांगीण विकास के लिए अनेकों योजनाएं बनाई एवं इसके लिए 1.65 लाख करोड़ रुपये की राशि का निर्धारण किया। उन्होंने कहा कि भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि इस पैकेज पर बिहार के युवाओं, गरीबों, किसानों और महिलाओं का अधिकार है और हम उनका अधिकार उन्हें विनम्रता पूर्वक लौटाने आये है, नीतीश कुमार को कोई अधिकार नहीं है बिहार के विकास के पैकेज को नकारने का। श्री शाह ने नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए कहा कि नीतीश कुमार के आँखों पर अहंकार का चश्मा लग गया है और उन्हें राज्य की सत्ता के अलावा और कुछ नहीं दिखाई देता। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री बिहार के विकास के लिये कटिबद्ध हैं और राज्य के विकास के बिना देश का संपूर्ण विकास संभव नहीं है

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि लालू यादव तो हमेशा से ही बेसिरपैर की बातें करते हैं। उन्होंने जनता से पूछा कि लालू यादव काला कबूतर और कौआ काटने की बात कहते हैं, क्या इससे बिहार का विकास होगा, क्या लोगों के घरों में बिजली आएगी, नौजवानों को रोजगार मिलेगा?

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने जनता से अपील करते हुए कहा कि बचे हुए दो चरणों में पिछले तीन चरणों की तरह ही भाजपा के पक्ष में भारी मतदान करके राज्य में राजग की लोक कल्याणकारी सरकार बनाईये और प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के हाथों को मजबूत कीजिए।


(इंजी. अरुण कुमार जैन)
कार्यालय सचिव

Download PDF