Salient Points of Speech in Public Meetings at Sahibganj, Kurhani , Bharatpur and Gaighat, Bihar

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह द्वारा बिहार के साहिबगंज, कुढ़नी, भरतपुर और गायघाट की रैली में दिए गए संबोधन के मुख्य अंश

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में हम अगड़ा बिहार बनाने की लड़ाई लड़ रहे हैं जबकि लालू और नीतीश अगड़ी जाति - पिछड़ी जाति की राजनीति करने में व्यस्त हैं: अमित शाह
*********
लालू और नीतीश की बड़े भाई-छोटे भाई की जोड़ी का हश्र इस विधान सभा चुनाव में 'पुनर्मूषिको भव' की तरह होने वाला है: अमित शाह
*********
नीतीश, लालू और कांग्रेस अल्पसंख्यको के लिए 9% आरक्षण दलितों के हिस्से से निकाल कर देंगे या फिर मौजूदा आरक्षण में पिछड़ों/अतिपिछड़ों की हिस्सेदारी कम करेंगें: अमित शाह
*********
भाजपा शुरू से ही मौजूदा अारक्षण व्यवस्था की समर्थक रही है और वह इसमें किसी भी प्रकार का कोई परिवर्तन नहीं होने देगी: अमित शाह
*********
नीतीश कुमार की आँखों पर अहंकार का चश्मा लग चुका है और उन्हें बिहार के विकास की कोई चिंता नहीं है: अमित शाह
*********
नीतीश कुमार खुद को बिहार समझने की भूल न करें, राज्य की जनता उन्हें सबक सिखाने के लिए तैयार बैठी है: अमित शाह
*********
बिहार से लालू-नीतीश की जोड़ी के जंगलराज और भ्रष्टाचार खात्मा तय है: अमित शाह
*********
नीतीश कुमार को बिहार की जनता को यह जवाब देना होगा कि कांग्रेस की अगुआई वाली संप्रग सरकार के 10 वर्षों के शासनकाल में आखिर बिहार की भलाई के लिए केंद्र से उन्हें कितनी सहायता मिली: अमित शाह
*********
बिहार में लालू और नीतीश के गठबंधन से सबसे ज्यादा खुशी शहाबुद्दीन जैसे अपराधी तत्वों को हो रही है और बिहार को फिर से जंगलराज के गर्त में धकेलने की तैयारी की जा रही है: अमित शाह
*********
बिहार की जनता ने बिहार में नीतीश-लालू के आतंक राज को दरकिनार करके विकासराज को चुनने का मन बना लिया है: अमित शाह
*********
भाजपा शासित राज्य विकास के नित नए आयाम स्थापित करते जा रहे हैं और वहाँ सही मायनों में जनता की और जनता के लिए एक लोक-कल्याणकारी सरकार है: अमित शाह
*********
अब बिहार में विकास की बयार लाने की बारी है: अमित शाह
*********
आज बिहार के युवाओं को पढ़ाई, कमाई और दवाई के लिए बिहार से पलायन करना पड़ रहा है, हमें इस स्थिति को बदलना है: अमित शाह
*********
बिहार में विकास भाजपा की अगुआई में केवल राजग की सरकार ला सकती है: अमित शाह
*********
बिहार का मुख्यमंत्री बिहारी ही होगा लेकिन वह भाजपा से होगा: अमित शाह
*********

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने आज मंगलवार को बिहार के साहिबगंज, कुढ़नी, भरतपुर और गायघाट की रैली में विशाल जन-समुदाय को सम्बोधित किया और इस बार के बिहार विधान सभा चुनाव में जनता से राज्य में दो तिहाई की बहुमत से भाजपा की अगुआई में राजग सरकार बनाने की अपील की। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि बिहार के जनता की आँखों में मैंने परिवर्तन की लहर देखी है, महिलाओं में अपनी सलामती की चिंता देखी है और लोगों में राज्य की मौजूदा शासन व्यवस्था के खिलाफ आक्रोश एवं गुस्सा देखा है। उन्होंने कहा कि बिहार से लालू-नीतीश की जोड़ी के जंगलराज और भ्रष्टाचार खात्मा तय है।

नीतीश सरकार पर कटाक्ष करते हुए भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि नीतीश और लालू हर रोज एक नया झूठ लेखर हाजिर हो जाते हैं और जनता को गुमराह करने में लग जाते हैं। श्री शाह ने कहा कि भाजपा शुरू से ही मौजूदा अारक्षण व्यवस्था की समर्थक रही है और वह इसमें किसी भी प्रकार का कोई परिवर्तन नहीं होने देगी। उन्होंने आरक्षण के मुद्दे पर महास्वार्थबंधन के नेताओं को लपेटते हुए उनपर कई सवाल उठाये। उन्होंने कहा, “2012 उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव के दौरान कांग्रेस ने अपने वरिष्ठ नेता श्री सलमान खुर्शीद के माध्यम से अल्पसंख्यकों को 9% आरक्षण देने का वादा किया था। आज नीतीश जी और लालू जी कांग्रेस के साथ है तो मैं नीतीश जी और लालू जी से पूछना चाहता हूँ कि माननीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा आरक्षण की सीमा 50% निर्धारित किये जाने के कारण वह अल्पसंख्यको के लिए 9% आरक्षण दलितों के हिस्से से निकाल कर देंगे या फिर मौजूदा आरक्षण में पिछड़ों/अतिपिछड़ों की हिस्सेदारी कम करेंगें।"

भाजपा अध्यक्ष ने एक प्राचीन कहानी 'पुनर्मूषिको भव' का उल्लेख करते हुए कहा कि जिस तरह एक चूहा एक महात्मा से दया-याचना करके उनके आशीर्वाद से शेर बन गया तथा शेर बनते ही वह अपने ही सृजनकर्ता महात्मा को खाने पर उतारू हो गया और अंततोगत्वा फिर से महात्मा जी द्वारा अपने असली रूप 'चूहे' को प्राप्त हुआ, उसी तरह से लालू और नीतीश की बड़े भाई-छोटे भाई की जोड़ी का हश्र इस विधान सभा में होने वाला है।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि हम अगड़ा बिहार बनाने की लड़ाई लड़ रहे हैं जबकि लालू और नीतीश अगड़ी जाति और पिछड़ी जाति की राजनीति करने में व्यस्त हैं। उन्होंने कहा कि नीतीश और लालू हर रोज प्रधानमंत्री को अपशब्द कहते हैं, क्या इससे बिहार का विकास होगा? उन्होंने कहा कि हम बिहार में विकास के आधार पर चुनाव चाहते हैं। उन्होंने कहा कि बिहार की जनता ने बिहार में नीतीश-लालू के आतंक राज को दरकिनार करके विकासराज को चुनने का मन बना लिया है।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि 25 सालों तक लगातार बड़े भाई-छोटे भाई ने मिलकर बिहार को लूटने का काम किया है। उन्होंने कहा कि इन 25 सालों में जब देश तेज गति से विकास के पथ पर नई-नई कहानियाँ लिख रहा था, बिहार भ्रष्टाचार, कुशासन और जंगलराज के साये में जीने को विवश था। उन्होंने कहा कि भाजपा शासित राज्य विकास के नित नए आयाम स्थापित करते जा रहे हैं और वहाँ सही मायनों में जनता की और जनता के लिए एक लोक-कल्याणकारी सरकार है। उन्होंने कहा कि अब बिहार में विकास की बयार लाने की बारी है। श्री शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री बनने के 15 महीनों के भीतर ही श्री नरेन्द्र भाई मोदी ने बिहार के दलितों, महादलितों, पिछड़ों और अति-पिछड़ों के कल्याण के लिए, बिहार के गरीबों, युवाओं और किसानों की भलाई के लिए 1.65 लाख करोड़ रुपये के विशेष पैकेज का तोहफा राज्य को दिया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा बिहार के विकास के लिए दिये गये इस राशि पर भी, जोकि बिहार सरकार के तीन वर्षों के बजट के बराबर है, यहां के अहंकारी मुख्यमंत्री ने राजनीति शुरू कर दी और कहा कि हमें इसकी कोई जरूरत नहीं है, बिहार अपने आप खड़ा हो जाएगा। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार की आँखों पर अहंकार का चश्मा लग चुका है और उन्हें बिहार के विकास की कोई चिंता नहीं है। श्री शाह ने कहा कि इस पैसे पर बिहार के गरीबों, युवाओं और किसानों का हक़ है और नीतीश कुमार को इससे इनकार करने का अधिकार कदापि नहीं है। उन्होंने नीतीश कुमार पर पलटवार करते हुए कहा कि नीतीश कुमार को बिहार की जनता को यह जवाब देना होगा कि कांग्रेस की अगुआई वाली संप्रग सरकार के 10 वर्षों के शासनकाल में आखिर बिहार की भलाई के लिए केंद्र से उन्हें कितनी सहायता मिली।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि आज बिहार के युवाओं को पढ़ाई, कमाई और दवाई के लिए बिहार से पलायन करना पड़ रहा है, हमें इस स्थिति को बदलना है। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि बिहार में ऐसी सरकार की आवयश्यकता है जो केंद्र के साथ कंधे-से-कंधा मिलाकर काम करे, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के 'सबका साथ - सबका विकास' की अवधारणा को चरितार्थ करने में अपना महत्त्वपूर्ण योगदान दे सके और राज्य को विकास की नई उंचाईयों पर ले जा सके।

श्री शाह ने कहा, बिहार का बच्चा-बच्चा आज यह कह रहा है कि बिहार में लालू और नीतीश के गठबंधन से सबसे ज्यादा खुशी शहाबुद्दीन जैसे अपराधी तत्वों को हो रही है। उन्होंने कहा कि लालू और नीतीश की बड़े भाई-छोटे भाई की जोड़ी बिहार को फिर से जंगलराज के गर्त में धकेलने के लिए आमादा है। उन्होंने कहा कि बिहार की जनता विकास चाहती है और बिहार में विकास भाजपा की अगुआई में केवल राजग की सरकार ला सकती है।

नीतीश कुमार पर कटाक्ष करते हुए भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि नीतीश कुमार ने महादलितों का अपमान करने का काम किया है। उन्होंने कहा कि जो एक महादलित के फल तोड़ने से भी मना कर देता हो और उसे एक मुद्दा बना देता हो, जो एक महादलित को मुख्यमंत्री के कुर्सी से हटाकर खुद स्वयं की स्वार्थ-सिद्धि के लिए पुनः सत्ता पर काबिज होने से भी संकोच न करता हो, वह दलितों और पिछड़ों के विकास की बात कैसे कर सकती है।

नीतीश और लालू के 'बिहारी बनाम बाहरी' आरोपों पर पलटवार करते हुए श्री शाह ने कहा कि बिहार का मुख्यमंत्री बिहारी ही होगा लेकिन वह भाजपा से होगा। उन्होंने नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए कहा कि नीतीश कुमार खुद को बिहार समझने की भूल न करें, राज्य की जनता उन्हें सबक सिखाने के लिए तैयार बैठी है।

भाजपा अध्यक्ष ने जनता को संबोधित करते हुए कहा कि आपने 35 साल कांग्रेस को राज्य में शासन का अधिकार दिया, 15 साल लालू जी को दिया और 10 साल नीतीश कुमार को दिया लेकिन बिहार विकास से अभी भी महरूम है, मैं आपसे केवल एक बार पाँच वर्षों के लिए आपकी सेवा का मौक़ा चाहता हूँ और मैं विश्वास दिलाता हूँ कि बिहार में विकास की नई इबारतें लिखी जाएगी और बिहार देश के सबसे अगड़े राज्य के रूप में उभर कर सामने आयेगा।

(इंजी. अरुण कुमार जैन)
कार्यालय सचिव

Download PDF