Salient Points of Speech in Public Meetings at Yogiraj Circle, Husanganj, Basantpur and Dubauli, Bihar

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह द्वारा बिहार के तरैया के योगीराज सर्किल, रघुनाथपुर के हुसैनगंज, गोरियाकोठी के बसंतपुर और बैकुंठपुर के दुबौली में दिए गए संबोधन के मुख्य अंश

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के कुशल नेतृत्व में बिहार में विकास के एक नए युग का आरंभ हो चुका है: अमित शाह
************
बिहार में भाजपा की अगुआई में राजग की दो-तिहाई बहुमत की सरकार बनना तय: अमित शाह
************
लालू यादव और नीतीश कुमार के गठबंधन से शहाबुद्दीन जैसे अपराधी तत्त्वों को काफी खुशी हुई है और राज्य में फिर से जंगलराज दस्तक देने लगा है: अमित शाह
************
लालू यादव और नीतीश कुमार अगड़ी जाति बनाम पिछड़ी जाति की राजनीति करते हैं जबकि भाजपा राज्य में विकास के लिए अगड़े बिहार और पिछड़े बिहार की राजनीति करती है: अमित शाह
************
जिस लालू यादव को नीतीश कुमार जंगलराज का प्रतीक कहते थकते नहीं थे, आज उस लालू यादव में नीतीश कुमार को मसीहा कैसे नजर आने लगा: अमित शाह
************
नीतीश कुमार के आँखों पर अहंकार का चश्मा लग गया है: अमित शाह
************
हम ऐसे बिहार का निर्माण चाहते हैं जहाँ यवाओं को रोजगार मिले, क़ानून-व्यवस्था सुदृढ़ हो, उद्योग और कारखाने हों, किसानों को उनके फसलों का उचित मूल्य मिले और सबके विकास की बात हो: अमित शाह
************
भाजपा की हमेशा से विकास की कार्य संस्कृति रही है: अमित शाह
************
भाजपा की अगुआई में राजग बिहार के नवनिर्माण के लिए प्रतिबद्ध है: अमित शाह
************
भाजपा ने देश को सबसे ज्यादा पिछड़े वर्ग से मुख्यमंत्री दिया है और एक पिछड़े वर्ग के व्यक्ति को, एक चाय बेचने वाले को देश के प्रधानमंत्री के पद पर सुशोभित किया है: अमित शाह
************
राज्य की जनता ने राजग की सरकार बनाने का मन बना लिया है क्योंकि लोग फिर से राज्य में 'जंगलराज' नहीं आना देना चाहते: अमित शाह
************
सत्ता के स्वार्थ के लिए किया गया कांग्रेस, लालू और नीतीश कुमार का गठबंधन बिहार में सुशासन नहीं ला सकता: अमित शाह
************
हम समाज के सभी वर्गों का सर्वांगीण विकास करने के लिए कटिबद्ध हैं: अमित शाह
************
यदि बिहार में युवाओं के भविष्य को बेहतर बनाने वाली सरकार चाहिए तो बिहार में भाजपा के नेतृत्व में राजग की सरकार बनानी जरूरी है: अमित शाह
************
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा बिहार को दिया गया विशेष पैकेज नीतीश, लालू एंड कंपनी के लिए नहीं, वरन बिहार के युवाओं, गरीबों एवं किसानों के कल्याण के लिए है: अमित शाह
************
हम अहंकार छोड़, समाजसेवा के लिए राजनीति में आये हैं: अमित शाह
************
बिहार में कोई बाहरी नहीं, बिहारी ही मुख्यमंत्री बनेगा लेकिन वह भाजपा से होगा: अमित शाह
************

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह ने आज शुक्रवार को बिहार के तरैया के योगीराज सर्किल, रघुनाथपुर के हुसैनगंज, गोरियाकोठी के बसंतपुर और बैकुंठपुर के दुबौली की विशाल चुनावी रैलियों को सम्बोधित किया और इस बार के बिहार विधान सभा चुनाव में जनता से राज्य में दो तिहाई की बहुमत से भाजपा की अगुआई में राजग सरकार बनाने की अपील की। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि पूरे बिहार में मैंने जनता की आँखों में परिवर्तन की लहर देखी है और राज्य की मौजूदा शासन व्यवस्था के प्रति आक्रोश देखा है। उन्होंने नीतीश कुमार को ललकारते हुए कहा कि 9 नवम्बर को वह अपना इस्तीफ़ा राजयपाल को सौंपने के लिए तैयार रहें, भाजपा की अगुआई में राजग राज्य में दो-तिहाई की बहुमत से सरकार बनाने जा रही है।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा, "लालू यादव और नीतीश कुमार अगड़ी जाति बनाम पिछड़ी जाति की राजनीति करते हैं जबकि भाजपा राज्य में विकास के लिए अगड़े बिहार और पिछड़े बिहार की राजनीति करती है। यदि आपको अगड़ा बिहार चाहिए तो बिहार में भाजपा की अगुआई में राजग की सरकार बनानी होगी। उन्होंने कहा कि भाजपा सिद्धांतों के आधार पर विकास की राजनीति करती है। उन्होंने कहा कि एक तरफ बिहार को पीछे की ओर ले जाने वाले लोगों का महागठबंधन है तो दूसरी ओर भाजपा के अगुआई में बिहार को आगे की ओर ले जाने वाला राजग गठबंधन है। यह बिहार की जनता को तय करना है कि उन्हें अगड़ा बिहार चाहिए या फिर पिछड़ा बिहार क्योंकि भारतीय जनता पार्टी ही बिहार की जनता को एक विकसित बिहार दे सकती है। आपने राज्य में 60 वर्षों तक लगातार कांग्रेस, लालू जी और श्री नीतीश कुमार को शासन का मौक़ा दिया लेकिन बिहार अभी भी विकास के विभिन्न मापदंडों पर काफी पीछे है। आप एक बार केवल 5 वर्षों के लिए बिहार में भाजपा-नीत राजग सरकार को मौक़ा दीजिये, हम बिहार को देश का सर्वोत्तम प्रदेश बनाकर आपको दिखायेंगें।"

श्री शाह ने कहा कि जब हम विकास की बात करते हैं तो उसके पीछे एक वजह है। उन्होंने कहा कि भाजपा की हमेशा से विकास की कार्य संस्कृति रही है। उन्होंने कहा कि चाहे मध्य प्रदेश हो, छत्तीसगढ़ हो, राजस्थान हो या फिर झारखंड, हमने विकास की दृष्टि से पिछड़े हुए राज्यों में विकास के नए आयाम स्थापित किये हैं और उन्हें राष्ट्र की मुख्यधारा में शामिल किया है। उन्होंने कहा कि पिछले एक वर्ष में ही भाजपा के शासनकाल में झारखंड ने बिहार की तुलना में विभिन्न क्षेत्रों में काफी अच्छी प्रगति की है। उन्होंने कहा कि वर्ल्ड बैंक की रिपोर्ट के अनुसार उद्योग-व्यापार करने की अनुकूलता में झारखंड, बिहार से बहुत आगे है।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि लालू जी के 15 वर्षों के शासनकाल में पिछड़ों, अतिपिछड़ों, दलितों, महादलितों और शोषितों के ऊपर सबसे ज्यादा अत्याचार हुए। उन्होंने कहा कि राज्य की जनता आज भी लालू यादव के आतंक राज को याद कर सिहर उठती है और आप दलितों और पिछड़ों के कल्याण की बात करते हैं? नीतीश कुमार पर कटाक्ष करते हुए श्री शाह ने कहा कि आपने एक महादलित के बेटे को मुख्यमंत्री पद से हटाकर महादलितों का अपमान किया है, आप किस मुँह से दलितों और पिछड़ों के कल्याण की बात करते हैं? उन्होंने कहा कि भाजपा ने देश को सबसे ज्यादा पिछड़े वर्ग से मुख्यमंत्री दिया है और बिना सिद्धांतों से समझौता किये डंके की चोट पर एक पिछड़े वर्ग के व्यक्ति को, एक चाय बेचने वाले को देश के प्रधानमंत्री के पद पर सुशोभित किया है। उन्होंने कहा कि हम समाज के सभी वर्गों का सर्वांगीण विकास करने के लिए कटिबद्ध हैं।

उन्होंने कहा कि लालू जी के जंगलराज में आये दिन हत्या, बलात्कार, अपहरण, लूट जैसी घटनाएं होती रहती थी, इसलिए हमने राज्य में श्री नीतीश कुमार को अपना समर्थन दिया था ताकि बिहार की जनता को जंगलराज से मुक्ति मिल सके और बिहार विकास के पथ पर अग्रसर हो सके लेकिन प्रधानमंत्री बनने की महत्त्वाकांक्षा में श्री नीतीश कुमार ने भारतीय जनता पार्टी का साथ छोड़ दिया और कुर्सी छिनते देखते ही केवल अपनी सत्ता बचाने के उद्देश्य से राज्य की जनता के जनादेश का अपमान कर लालू जी के गोद में जाकर बैठ गए, चौबे जी गए छब्बे बनने दुबे बन कर आ गए।

श्री शाह ने नीतीश कुमार को ललकारते हुए कहा कि बिहार की जनता हिसाब मांग रही है। उन्होंने कहा कि जिस लालू यादव को आप जंगलराज का प्रतीक कहते थकते नहीं थे, आज उस लालू यादव में आपको मसीहा कैसे नजर आने लगा। उन्होंने नीतीश कुमार पर हमला करते हुए कहा कि राज्य की जनता ने जंगलराज से मुक्ति की खातिर भाजपा और जद (यू) गठबंधन के पक्ष में मतदान किया था, आज केवल अपने स्वार्थ पूर्ति के लिए आप जनता के जनादेश के साथ विश्वासघात करने से भी नहीं चूके! उन्होंने कहा कि बिहार की जनता इस बार आपके अपराधों को क्षमा नहीं करेगी, राज्य की जनता ने राजग की सरकार बनाने का मन बना लिया है क्योंकि लोग फिर से राज्य में 'जंगलराज' नहीं आना देना चाहते। उन्होंने कहा कि लालू यादव और नीतीश कुमार के गठबंधन से शहाबुद्दीन जैसे अपराधी तत्त्वों को काफी खुशी हुई है और राज्य में एक बार फिर से जंगलराज दस्तक देने लगा है। उन्होंने कहा कि सत्ता के स्वार्थ के लिए किया गया कांग्रेस, लालू और नीतीश कुमार का गठबंधन बिहार में सुशासन नहीं ला सकता।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि लालू यादव विकास की बजाय बेसिर-पैर की बातें करते हैं - वह कभी काला कौआ काटने की बात करते हैं तो कभी काला कबूतर काटने की बात करते हैं, कभी सिन्दूर तो कभी धुंआ उड़ाने की बात करते है, कभी तो गौ-मांस और बकरे के मांस को एक बता देते हैं; उनकी मति भ्रष्ट हो गयी है। उन्होंने लालू यादव पर पलटवार करते हुए कहा कि काला कौआ- कबूतर काटने से बिहार में विकास नहीं होगा, इससे गरीबों को रोजगार नहीं मिलने वाला और ना ही बिजली आने वाली है। उन्होंने कहा कि बिहार के युवा ने परिवर्तन का मन बना लिया है, बिहार का युवा आपसे 15 साल का हिसाब मांग रहा है, इस प्रकार की उलूल-जुलूल बातें करके आप बिहार की जनता को गुमराह नहीं कर सकते, उसे इन अंधविश्वासों पर भरोसा नहीं है, वह 21वीं सदी के बिहार को देखना चाहता है। उन्होंने नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए कहा कि नीतीश कुमार में लालू जी के अनाप-शनाप वक्तव्यों का खंडन करने की हिम्मत ही नहीं है, क्योंकि नीतीश कुमार को मालूम है, जैसे ही उन्होंने लालू यादव की बातों का खंडन किया, वैसे ही उनकी कुर्सी गई।

श्री शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के कुशल नेतृत्व में बिहार में विकास के एक नए युग का आरंभ हो चुका है। उन्होंने लालू-नीतीश की जोड़ी पर तंज करते हुए कहा कि इन दोनों ने बिहार को 25 सालों तक विकास से महरूम रखने का पाप किया है। उन्होंने कहा कि लालू-नीतीश के शासन के 25 वर्षों में देश के कई राज्यों का औद्योगिक व आर्थिक विकास बड़ी तेजी से हुआ, लेकिन बिहार आज भी उसी जगह पर खड़ा है जहां पहले था। यह कैसा विकास है कि यहां के लोगों को पढ़ाई-दवाई और कमाई के लिए दूसरे प्रदेशों में जाना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि सड़कें अभी भी गाँवों तक नहीं पहुँची है, शुद्ध पीने की पानी का अभाव है, नए उद्योग-कारखाने के लगने की बात तो दूर, पुराने कारखाने भी बंद हो चुके हैं, किसानों की फसलों का खरीद नहीं हो पा रहा, बिजली की समस्या जस-की-तस है, अस्पतालों का अभाव है, जहां अस्पतालें हैं वहाँ न तो चिकित्सक हैं और न ही बुनियादी स्वास्थ्य सुविधाएं।

उन्होंने कहा कि देश के विकास और उसकी समृद्धि के मूल में बिहार के युवाओं का खून-पसीना है लेकिन बिहार का युवा आज राज्य से पलायन को विवश है। उन्होंने कहा कि बिहार में प्रतिभाओं की कोई कमी नहीं है, बिहार का युवा हर चुनौती से निबटने में सक्षम है, उन्हें बस एक उपयुक्त मंच की जरूरत है जिससे कि वह अपने प्रतिभा का सदुपयोग कर सके और विश्व के युवाओं से प्रतिस्पर्धा कर सके। उन्होंने कहा कि यदि बिहार में युवाओं के भविष्य को बेहतर बनाने वाली सरकार चाहिए तो बिहार में भाजपा के नेतृत्व में राजग की सरकार बनानी जरूरी है।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में हम बिहार को विकास की दृष्टि से देश के अन्य पश्चिमी राज्यों के समकक्ष करने के लिए कटिबद्ध हैं। उन्होंने कहा कि श्री नरेन्द्र मोदी ने बिहार को पिछड़ेपन से उबारने के लिए विशेष पैकेज का वादा किया था और प्रधानमंत्री बनने के 15 महीनों के अंदर ही उसे पूरा किया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने बिहार के विकास के लिए 1 लाख 65 हजार करोड़ रुपये की राशि का आवंटन किया जो बिहार के तीन साल के बजट के बराबर है लेकिन नीतीश का अहंकार देखिये कि उन्होंने बिहार के विकास के लिए दिए गए पैकेज पर भी राजनीति शुरू कर दी। नीतीश कुमार पर निशाना साधते हुए श्री शाह ने कहा कि नीतीश जी, आपकी आँखों पर अहंकार का चश्मा लग गया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा बिहार को दिया गया विशेष पैकेज नीतीश, लालू एंड कंपनी के लिए नहीं, वरन बिहार के युवाओं, गरीबों एवं किसानों के कल्याण के लिए है। श्री शाह ने कहा कि हम अहंकार छोड़, समाजसेवा के लिए राजनीति में आये हैं। उन्होंने जनता को आगाह करते हुए कहा कि यदि दुबारा से नीतीश-लालू की जोड़ी राज्य में सत्ता में आती है तो यह पैकेज बिहार के गरीबों, पिछड़ों और दलितों तक नहीं पहुँच पायेगा और बिहार फिर से जंगलराज के काले दौर में चला जाएगा।

बिहारी बनाम बाहरी के मुद्दे पर नीतीश कुमार पर कटाक्ष करते हुए भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि बिहार में कोई बाहरी नहीं, बिहारी ही मुख्यमंत्री बनेगा लेकिन वह भाजपा से होगा। श्री शाह ने नीतीश कुमार पर करारा वार करते हुए कहा कि बिहार का मतलब नीतीश कुमार नहीं है और आप जनता को गुमराह करने की कोशिश मत करिये।

सभा में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के साथ कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए श्री शाह ने कहा कि नीतीश अपने एक कंधे पर जंगलराज तो दूसरे कंधे पर 12 लाख करोड़ के भ्रष्टाचार वाले महागठबंधन के सहारे चुनाव मैदान में उतरे हैं। उन्होंने कहा कि इस स्थिति में नीतीश कुमार बिहार में विकास की रफ़्तार कैसे तेज कर सकते हैं?

आरक्षण की व्यवस्था जारी रखने और दलितों-पिछड़ों को सुरक्षा के प्रति आश्वस्त करते हुए एक बार फिर भाजपा अध्यक्ष श्री अमित शाह ने बिहार में चौतरफा विकास को जरूरी बताया। इसके लिए उन्होंने बिहार की जनता से राज्य की सत्ता में परिवर्तन का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि हम ऐसे बिहार का निर्माण चाहते हैं जहाँ यवाओं को रोजगार मिले, क़ानून-व्यवस्था सुदृढ़ हो, उद्योग और कारखाने हों, किसानों को उनके फसलों का उचित मूल्य मिले और सबके विकास की बात हो। उन्होंने कहा कि भाजपा की अगुआई में राजग बिहार के नवनिर्माण के लिए प्रतिबद्ध है।

Download PDF